Wednesday, April 21, 2010

डिफोल्टर डाटाबेस (सिबिल) से अपना नाम हटवाने के टिप्स

जब भी आप किसी बेंक से लोन लेते है, तो कई बार ऐसे मौके आते है, जब हम समय पर किश्त का भुगतान नहीं कर पाते. इसके कई कारण हो सकते है जैसे आर्थिक स्थिति डावाडोल होना, बैंक या क्रेडिट कार्ड कम्पनी से विवाद होना, कोई बड़ा खर्चा अचानक आ जाना, या फिर कमाई के जरिये का अचानक बंद हो जाना. ऐसी स्थिति में अक्सर हम घबरा जाते है लेकिन घबराने की कोई बात नहीं है, आप कुछ समय बाद बैंक या क्रेडिट कार्ड कम्पनी से एक समझौते के तहत पूर्ण भुगतान कर सकते है, जिसमे एक मुश्त रकम देकर या इमआई को फिर से निर्धारित कर लोन चूकाने के इंतजाम होते है. इस समझौते के तहत आपको काफी छुट मिल सकती है.
जब आप के द्वारा भुगतान नहीं किया जाता, ऐसी स्थिति में बेंक आपका नाम सामूहिक डिफोल्टर डाटाबेस यानी की क्रेडिट इन्फोर्मेशन ब्यूरो में सूचित कर देता है. पर यह बेंक की जवाबदारी है की वह समझौता हो जाने पर और आपके द्वारा रकम चूकाने पर सिबिल को सूचित करे, ताकि आपका नाम वहा से हटाया जाए, पर अक्सर ऐसा होता नही है, और जब तक आप का नाम सिबिल में है, तब तक आप दूसरा लोन या क्रेडिट कार्ड नहीं ले पाएंगे| तो नीचे कुछ टिप्स दिए गए है ताकि आप अपना नाम सिबिल से हटवा पाए.
१. सबसे पहले आपको अपने खाते पर लंबित पूरी राशि का भुगतान करना चाहिए और एक बैंक से अनापत्ति प्रमाणपत्र्र (No Objection Certificate) लेना चाहिए.
ज्यादातर मामलो में बेंक अपने ग्राहक के साथ एक मुश्त समझौते के तहत भुगतान लेता है जिसमे वो काफी रियायते देता है.
२. अनापत्ति प्रमाणपत्र्र (No Objection Certificate) लेकर आप बेंक को लिखित में सूचित करे की वह आपका नाम सिबिल से हटवा ले.
३. यदि बेंक ३० दिनों के भीतर आपका नाम नहीं हटवाता है, तो आप अपने बेंक के खिलाफ शिकायत कर सकते है, साथ ही साथ क़ानूनी कार्यवाही भी कर सकते है.
४. आप
सीधे सिबिल को अनापत्ति प्रमाण पत्र की एक प्रति भेज कर, चूककर्ता सूची से अपना नाम निकालने की गुज़ारिश कर सकते है, क्योकि अब आपके ऊपर कोई रकम बकाया नहीं है.
एक बार आपका नाम सिबिल से हट जाने पर आप फिर से लोन के लिए आवेदन कर सकते है.
अपने खुद के अनुभवों के आधार पर यहाँ मै कहना चाहूँगा की जहा तक हो सके लोन सरकारी बेंको से ले, वे आपको लोन चुकाने में काफी सुविधाए देते है और आप पर नाहक दबाव नहीं बनाते है, और पारदर्शिता भी काफी रखते है.

No comments:

Post a Comment